सभी घर वालों को पता चलते हैं कि चारू बाहर नौकरी करती है और उनकी ओर से सवालों की बोछार होती है।

अरमान और अभीरा भी उसके सपनों का समर्थन करते हैं।

दादी सा को पुराने धारावाहिक सोच को बदलने का संदेश देना होता है।

देव चारू को समर्थन देते हैं और उसे आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करते हैं।

चारू को समर्थन और मान-सम्मान की जरूरत है, नकारात्मकता नहीं।

बाहर जाकर नौकरी करने की स्थिति में भी अच्छे इंसानी संबंध बनाए रखना चाहिए।

समाज में बेटियों को उनके सपनों का समर्थन देना जरूरी है।

समाज में समानता और समझदारी के लिए शिक्षा और करियर के संदर्भ में नई सोच की आवश्यकता है।

परिवार के सदस्यों के बीच समझदारी और सहयोग की आवश्यकता है।

सपनों को पूरा करने के लिए समर्थन और संघर्ष दोनों की जरूरत होती है।