मोहन और दामिनी के बीच दरारें: मोहन और दामिनी के बीच की दरारें खुलती हैं, जब दामिनी पूछती है कि क्या मोहन उसकी स्थिति पर नज़र रखने में दिलचस्पी रखता है.

मोहन की सलाह: मोहन दामिनी से कहता है कि उसका सिर नीचे रखना समस्या का समाधान नहीं है.

दामिनी की निर्णयक बातें: दामिनी उसके चेहरे को उठाती है और कहती है कि उसके कार्यों से जान बच जाएगी.

भगवान कृष्ण और राधा: भगवान कृष्ण के मंदिर में, राधा उनसे बात करती है और उन्हें उनकी प्रबल भक्ति की प्रशंसा करती है.

परीक्षाओं की बात: राधा भगवान कृष्ण से कहती है कि वह हमेशा उनकी परीक्षाओं में सफल रहेंगे.

आगाही बादल: एक बादल गरजता है और एक तेज़ तूफ़ान की घोषणा करता है.

भगवान कृष्ण की परीक्षा: राधा भगवान कृष्ण से कहती है कि वह उन्हें सभी परीक्षाओं में पास करा सकते हैं, लेकिन मोहन और गुनगुन को कष्ट नहीं होने देंगे.

दरारों की उम्मीद: दरारें दिखाती हैं कि मोहन और दामिनी के रिश्तों में समस्या है.

दामिनी की सलाह: दामिनी मोहन को अपने कार्यों के साथ आगे बढ़ने की सलाह देती है.

भगवान कृष्ण की प्रशंसा: राधा भगवान कृष्ण की प्रबल भक्ति की प्रशंसा करती है.