एपिसोड दामिनी के गर्व भरी निगाहों से राधा मोहन के साथ शुरू होता है।

दामिनी की रणनीति: दामिनी अपनी रणनीति को शरू करती है और मोहन को इसके बारे में बताने के लिए इशारे करती है।

दामिनी की दरिंदगी: दामिनी, स्वार्थी मोहन द्वारा गुनगुन को आहत करने के विचार पर हँसती है और उसे अपनी गोद में बैठने के लिए भीख मांगती है।

मोहन का सामर्थ्य: मोहन जानता है कि वह अपने अनादर करने वालों को कैसे सबक सिखा सकता है।

दामिनी की शर्तें: दामिनी चाहती है कि मोहन उसकी शर्तों को माने और वह एक रात उसके साथ बिताए।

मोहन की हैरानी: मोहन चौंक जाता है और हैरान होता है जब दामिनी उसे यह प्रस्ताव देती है।

दामिनी का वाद: दामिनी कहती है कि अगर मोहन उसकी शर्तों पर सहमत होता है, तो वह उसे सबसे अच्छा इलाज देगा।

राधा का फोन: मोहन को राधा का फोन आता है और उसके निराश चेहरे के साथ वहां से चला जाता है।

समय का मूल्यांकन: मोहन पहुंचने से पहले कुछ समय लेता है जिससे स्थिति को समझने का मौका मिलता है।