आज का एपिसोड: राधा और मोहन अपनी कैद से बाहर निकलने का वादा करते हैं, जैसे शुरुआत होती है।

दुआ की योजना: दुआ शक्ति को कॉल करती है और राधा की कैद से जानकारी हासिल करके उसकी रिहाई की योजना बनाती है।

राधा की ज़राह की मांग: अगली सुबह, राधा पानी की विनती करती है, लेकिन पुलिस अफसर उसका अस्वीकार करते हैं और उसे उपहास करते हैं।

सशक्त प्रतिरोध: अफसर कहता है कि राधा बस शब्दों में ही बढ़ गई है, क्रियाएँ नहीं कर रही हैं, जिस पर राधा उसे गलत साबित करने का वादा करती है।

प्रार्थना और साहस: प्रेरित पुलिस महिला फिर से राधा को पीटती है, लेकिन राधा नहीं हारती, बल्कि उसकी चेतना कमज़ोरी की सीमा पर होती है।

मोहन की सुरक्षा की प्रार्थना: वह मोहन की सुरक्षा की प्रार्थना करती है, चाहे यह मरने का मतलब हो, लेकिन उसे उसकी सुरक्षा की परवाह नहीं होती।

दमिनी और कवेरी का समय: दमिनी और कवेरी एक पांच-सितारा रिज़ॉर्ट में खुशियों का समय बिता रही हैं, जहाँ वह लगभग सभी विशेषताओं का आनंद उठा रही हैं।

कवेरी की चाल: दमिनी कवेरी को देखकर आंख मारती है और उसके सामने आने के बाद अपनी आंखों की पलकें झुकाती है, जबकि कवेरी उसे शरमिंदा करती है।

योजना की चाल: दमिनी खुद को कवेरी को आमंत्रित करने का दोष देती है, लेकिन फिर उसकी चिंता दूर हो जाती है, क्योंकि उसे लगता है कि वह कवेरी की लालसा को बढ़ावा देने के माध्यम से त्रिवेदी हाउस में प्रवेश कर सकेगी।

शक्ति और दुआ की पहुँच: दुसरी ओर, शक्ति और दुआ वृंदावन पहुँच चुके हैं और अब कारागार की ओर बढ़ रहे हैं।