RAM एक प्रकार की अस्थायी मेमोरी होती है, जिसमें डेटा स्थायी नहीं होता है। ROM एक प्रकार की स्थायी मेमोरी होती है, जिसमें डेटा स्थायी रूप से संग्रहित होता है।

RAM में डेटा अस्थायी रूप से संग्रहित होता है और जब तक बिजली चालित है, तब तक डेटा सुरक्षित रहता है। ROM में डेटा स्थायी रूप से संग्रहित होता है और इसे तब तक नहीं बदला जा सकता जब तक उपयोगकर्ता अपडेट नहीं करता है।

RAM में डेटा लिखा और पढ़ा जा सकता है, जिससे डेटा प्रबंधन की अनुमति मिलती है। ROM में केवल पढ़ने की अनुमति होती है और यहाँ पर डेटा लिखा नहीं जा सकता।

RAM में डेटा अस्थायी रूप से संग्रहित होता है और डेटा की वाणिज्यिक गति बढ़ा सकती है। ROM में डेटा स्थायी रूप से संग्रहित होता है और यह केवल पूर्वनिर्धारित डेटा को पढ़ने के लिए उपयोग होता है।

RAM उपयोगकर्ता के डेटा और प्रोग्रामों को संग्रहित करने में मदद करती है और वे जब आवश्यक होते हैं, तो त्वरित रूप से पहुंचे जा सकते हैं। ROM प्रमुख रूप से ऑपरेटिंग सिस्टम और अन्य स्थायी सॉफ़्टवेयर के लिए उपयोग होती है जो बार-बार चलाने की आवश्यकता नहीं होती।

RAM खाली होती है जब तक उपयोगकर्ता डेटा नहीं लिखता है। ROM में पहले से ही निर्धारित डेटा होता है, जो उपयोगकर्ता द्वारा नहीं बदला जा सकता।

RAM की क्षमता बढ़ाई जा सकती है और इसकी मानक क्षमता GB में मापी जाती है। ROM की क्षमता बढ़ाने की आवश्यकता नहीं होती है और यह केवल किलोबाइट या मेगाबाइट में मापी जाती है।

RAM में डेटा कई बार लिखा और मिताया जा सकता है। ROM में डेटा केवल एक बार लिखा जा सकता है और इसे बाद में नहीं बदला जा सकता।

RAM की प्राथमिकता उपयोगकर्ता द्वारा निर्धारित की जाती है और यह जितनी तेज़ हो, उतना ही बेहतर होता है। ROM की प्राथमिकता पूर्वनिर्धारित होती है और इसे उपयोगकर्ता नहीं बदल सकता।

RAM में संग्रहित डेटा बिजली के बिना नष्ट हो सकता है। ROM में संग्रहित डेटा स्थायी होता है और बिजली के बिना बरकरार रहता है।

RAM: सिस्टम ओपरेटिंग सिस्टम और एप्लिकेशन्स के समय डेटा और प्रोसेसिंग के लिए रैम का उपयोग होता है। ROM: बायोस (BIOS) और मोबाइल फ़ोन के ऑपरेटिंग सिस्टम जैसे स्थायी सॉफ़्टवेयर के लिए ROM का उपयोग होता है।