अनुपमा यशदीप से कहती है कि वह डांस क्लास जाना चाहती है, जो उसकी पसंद है।

अनुपमा कहती है कि उसे डांस क्लास जाने का बहुत खुशी है।

यशदीप को पता चलता है कि अनुज और उसकी मंगेतर ने उसे शादी का कार्ड उपहार में दिया है, जिससे उनको परेशानी होती है।

बा और वनराज को भी हैरानी होती है कि शादी के कार्ड के साथ अनुपमा को उपहार में क्यों दिया गया है।

अनुपमा ने समझाया कि हर प्रेम कहानी परीकथा नहीं होती, जो एक महिला के दृष्टिकोण को प्रकट करता है।

अनुपमा ने बच्चों को डांस सिखाना शुरू किया, जिससे वह खुश और उत्साहित होती है।

यशदीप अपने दोस्त के साथ हर मुसीबत में खड़ा है और उसे प्रेरित करता है।

अनुपमा अपने पिछले रिश्तों के बारे में खुलकर बात करती है और माफी मांगती है।

अनुपमा अपने फैसलों पर कायम रहने के लिए उत्साहित करती है और आगे बढ़ने का संकेत देती है।