बिज्जी का प्रस्ताव: एपिसोड अनुपमा के सुरुआती मोमें बिजी अनुपमा को जहां भी ले जाने के लिए प्रेरित करती है, जिससे बूढ़ी महिला बहुत खुश होती है।

ईशानी की गुमनामी: वेनराज और पाखी का परिवार ईशानी की गुमनामी से हैरान होते हैं, जिससे दृश्य में रहस्यमय तस्वीर बनती है।

पाखी की चिंता: पाखी का व्यवहार चिंताजनक होता है, जिसे वेनराज को देखकर परेशानी होती है, और डिंपी उसे समझाती है कि दोषारोपण की बजाय समस्या का हल ढूंढना चाहिए।

ईशानी का प्रवेश: ईशानी अचानक प्रस्तुत होती है, जिससे सभी चौंक जाते हैं, और पाखी को उसके पूर्व पति के साथ देखकर गुस्सा आता है।

लोहड़ी समारोह: अनुपमा लोहड़ी समारोह का आनंद लेती है, जिसमें बिज्जी और अनुपमा बालों में गजरा बांधती हैं, और वह एक आदमी को देखती है जो उसके बालों से हमला नहीं करने के लिए कहता है।

आदमी का संबंध: आदमी बीज्जी से कहता है कि उसने सब कुछ देखा है, जिससे वह मुस्कुराता है, इससे नया प्यार का संकेत हो सकता है।

पाखी की प्रतिक्रिया: पाखी अपनी पूर्व पति को देखकर गुस्से से भरी होती है, जो एक नये आदमी के साथ है।

डिंपी की परेशानी: डिंपी, वेनराज की परेशानी को देखकर, पाखी को डांटने की बजाय समस्या का समाधान ढूंढने के लिए कहती है।

पाखी का रहस्यमय भविष्य, जिस पर आगे के एपिसोड्स में ध्यान केंद्रित होगा, जो दर्शकों को सस्पेंस में रखता है।