वनराज का बड़ा फैसला: वनराज ने समर की अंग दान करने का महत्वपूर्ण फैसला लिया, जिससे जरूरतमंद लोगों को मदद मिल सके।

यादों की खोज: वनराज ने समर के साथ बिताई हुई यादों को याद किया और उनके समर्थन में फैसला लेने में कठिनाइयों का सामना किया।

कागजात पर हस्पताल के डॉक्टर को पहुंचाना: फैसले के बाद, वनराज ने डॉक्टर के पास कागजात पहुंचाई जिसके बाद डॉक्टर ने अंगों को निकालने की प्रक्रिया शुरू की।

अनुज की सराहना: अनुज ने वनराज के इस बहादुर फैसले की सराहना की और समर के गर्व के साथ उनके फैसले को सही माना।

गोली मारने वाले की पहचान: इंस्पेक्टर ने समर को गोली मारने वाले व्यक्ति की पहचान की और उसे दोषी घोषित किया।

दोषी की पहचान - सोनू: दोषी की पहचान होती है, जो कि सोनू के रूप में प्रकट होती है, वही लड़का जिसके साथ अनुज ने क्लब में झगड़ा किया था।

इंस्पेक्टर की सूचना: इंस्पेक्टर ने समर की गोली मारने वाले के पकड़ने की सूचना दी, जिससे आपत्ति और गुस्सा बढ़ा।

समर के अंगों की मूल्यवान दान: वनराज के फैसले ने उनके बेटे समर के अंगों की मूल्यवान दान को संजीवनी रूप दिया, जिससे जीवन को आगे बढ़ावा मिला।

समर के स्माइलिंग यादें: वनराज ने समर के साथ बिताई हुई मुस्कराहट भरी यादों को मन में सुरक्षित किया, जो उनके फैसले को प्रेरित किया।

दोषी की पहचान से आपत्ति: दोषी की पहचान सोनू के रूप में आते ही, अनुज और वनराज की आपत्ति और गुस्सा बढ़ जाता है, क्योंकि वह व्यक्ति वही है जिसके साथ झगड़ा हुआ था।