अनुपमा के विचार: अनुपमा सोचती है कि खाली घर मनुष्यों को काटता है और अब वह अपने सपनों के साथ अकेली है। वह अतीत की यादों को सोचती है।

अनुपमा के पास प्रसाद: अनुपमा को श्रुति से प्रसाद का आदेश मिलता है, जिसे वह स्वीकार करती है।

अनुपमा का आत्मविश्वास: अनुपमा प्रतियोगिता में हिस्सा लेती है और आत्मविश्वास से कहती है कि वह जीत सकती है।

अनुपमा की यादें: अनुपमा तोषु के हंसने और वनराज के अंतरराष्ट्रीय खाना जानने के बारे में पूछने की याद करती है।

अनुपमा का परीक्षण: प्रतियोगिता में अनुपमा को 15 मिनट में सामग्री के साथ एक डिश बनानी होती है।

अनुपमा का संदेह: अनुपमा को संदेह होता है कि वह क्या बनाएगी क्योंकि वह सामग्री से अनजान है।

श्रुति की प्रार्थना: श्रुति भगवान से अनुपमा को अनुप की जिंदगी से दूर रखने की प्रार्थना करती है।

अनुपमा का प्रयास: अनुपमा सामग्री को सूंघती और चखती है और डिश बनाती है।

न्यायाधीशों की प्रतिक्रिया: न्यायाधीश अनुपमा के प्रयासों से प्रभावित होते हैं।