Tax Planning में ये 6 गलतियाँ कर सकती हैं आपको महंगा! जानिए कैसे बचें।

Tax Planning in income tax in hindi : मार्च का महीना टैक्स प्लानिंग के लिए काफी अहमियत माना जाता है। इस महीने के समाप्त होते ही क्लोज हो जाएगा फाइनेंसियल ईयर । जिन लोगों ने अभी तक कर्रेंट फाइनेंसियल ईयर के लिए टैक्स बचाने का उपाए (Tax Planning) नहीं की है, वे अब लास्ट समय पर ऐसा कर रहे होंगे। वैसे तो टैक्स बचाने का उपाए सालभर चलने वाली प्लान है लेकिन कई लोग फाइनेंसियल ईयर का लास्ट आने पर इसे लेकर अलर्ट होते हैं। ऐसी स्ट्रैटेजी बनाना गलत है क्योंकि लास्ट टाइम पर टैक्स बचाने का उपाए में गलतियां होने की भी सनका बना रहता है। और आप टैक्स छूट के लाभ से वंचित रह सकते हैं आइए जानते हैं ऐसी ही कुछ मिस्टेक के बारे में, जिनसे अलर्ट चाहिए-

6 Tax Planning Mistakes

टैक्स बचाने का उपाए करने से पहले यह पता होना जरूरी है कि आपको टैक्स कितना है। आपके ऊपर कितना टैक्स बनता है मालूम करने के लिए सबसे पहले अपनी कुल आय और इनकम टैक्स रेट के बारे में मालूम करना जरूरी है। आय के कई माध्यम हैं – वेतन, व्यवसाय, जमा पर ब्याज, स्टॉक या म्यूचुअल फंड की बिक्री पर पूंजीगत लाभ, उपहार आदि। हालांकि, हर आय कर योग्य नहीं है। इसलिए यह भी जान लें कि कौन सी आय कर योग्य है और कौन सी नहीं, इसके बाद आपके लिए कर देनदारी जानना आसान हो जाएगा। साथ ही यह भी जानें कि टैक्स बचाने के लिए आपको कहां और कितना निवेश करना होगा।

यह भी पढ़े: 2024 में घर खरीदने के लिए टॉप 7 बैंकों की धमाकेदार Home Loan Interest Rates | HDFC | ICICI | PNB | Kotak Mahindra | AXIS Bank

1.कितना इन्वेस्टमेंट किया उसकी जानकारी न होना

आप अभी तक पुरे फाइनेंसियल ईयर कितना इन्वेस्टमेंट किया है उसकी जानकारी रखना । जितना अभी तक आप ने जो निवेश उस इन्वेस्टमेंट डिटेल्स को अपने बुक से मिलाना जहाँ पर अपने लिखा है इससे टैक्स से बचने के प्लानिंग में आप को हेलफुल होगा क्या यह प्लानिंग फायदेमंद है भी या नहीं, या फिर किसी औरप्लानिंग पर शिफ्ट होने की जरूरत है।

​2.अनुपयोगी Term life insurance लेना

टैक्स बचाने (Tax Saving) के कई तरीके हैं और इनमें इंश्योरेंस पालिसी भी शामिल है। लेकिन, सिर्फ टैक्स बचाने के इरादे से कोई पॉलिसी खरीदने पर जरुरत के मुताबिक लाइफ कवर न मिलने इसलिए लाइफ इंश्योरेंस (Life Insurance) लेने से पहले अपने परिवार की जरूरत के अनुसार कवरेज का पता लगाने की कोशिश करें।

 3.टैक्स बचाने पर ध्यान, Investment पर नहीं

टैक्स प्लानिंग का योजना करते समय केवल टैक्स बचाने पर ध्यान देने और इन्वेस्टमेंट को नजरअंदाज करने से आपके वेल्थ क्रिएशन का रास्ता ब्लॉक हो जाएगा। अच्छे टैक्स सेविंग्स योजना के साथ फाइनेंशियल गोल, वेल्थ क्रिएशन, आपातकालीन स्थितियों से निपटने के लिए लिक्विडिटी का अपने पास होना और पर्याप्त हेल्थ और लाइफ इंश्योरेंस का होना जरूरी है। इसके अलावा यह भी याद रखें कि किसी भी इन्वेस्टमेंट फॉर्म पर टर्म और कंडीशन को पढ़े बिना साइन न करें।

4.80C का लाभ न लेना

इनकम टैक्स की Section 80C के तहत 1.5 लाख रुपये की टैक्स छूट आम इन्वेस्टर को दी जाती है। ऐसे में आपको टैक्स प्लानिंग की योजना के लिए 80C की छूट का पूरा क्लेम कर लेना चाहिए। इसके लिए आप सुकन्या समृद्धि योजना, पीपीएफ, एनएससी, और एससीएसएस जैसी योजनाओं में इन्वेस्टमेंट करके आप इस छूट को पा सकते हैं।

5.क्रेडिट कार्ड से Life Insurance प्रीमियम

ज्यादातर लोग के पास सेविंग्स नहीं होने के वजह से केवल टैक्स बचाने के लिए क्रेडिट कार्ड से इंश्योरेंस के प्रीमियम का भुगतान कर देते हैं। ऐसे कंडीशन में पैसा न होने के कारण कई लोग क्रेडिट कार्ड के बिल पेमेंट नहीं कर पाते हैं और कर्ज के जान जाल में फंस जाते हैं। इसके कारण कई लोगों को टैक्स बचाने की जगह ब्याज के रूप में अधिक पैसों का पेमेंट करना पड़ जाता है। इस वजह से पैसे होने पर ही इन्वेस्टमेंट करना चाहिए।

6.बिना सोचे समझे के Tax Saving के लिए निवेश करना

अगर आप अपनी इनकम पर टैक्स में छूट लेना चाहते हैं तो आपको पहले से ही प्री प्लानिंग कर लेनी चाहिए। बिना प्री प्लानिंग के टैक्स सेविंग स्कीम में निवेश करने पर आप कई टैक्स छूट का फायदा नहीं उठा सकते है। इस वजह से हमेशा पूरी प्री प्लानिंग के साथ ही free tax filing करनी चाहिए।

Conclusion

दोस्तों उम्मीद करता हूँ इस आर्टिकल में मैने जो टैक्स प्लानिंग से सम्बंधित टिप और सतर्कता बताया है वह जानकारी अच्छी लगी होगी यदि किसी तरह का कन्फूजन हो तो कमेंट करके हमें जरूर बातें पुरे आर्टिकल पढ़ने के लिए धन्यवाद

यह भी पढ़े: प्रधानमंत्री Suryoday Yojana: घरों में सौर ऊर्जा से बिजली के बिल को करें जीरो किसे मिलेगा फायदा

FAQs

टैक्स प्लानिंग टैक्स चोरी से कैसे अलग है?
टैक्स प्लानिंग आपके टैक्स जिम्मेदारी को कम करने का एक कानूनी और स्मार्ट तरीका है। लेकिन यह टैक्स से बचने या टैक्स चोरी करने का तरीका नहीं है। टैक्स से बचना या टैक्स चोरी करना अवैध है

टैक्स प्लानिंग के विभिन्न तरीके क्या हैं?
नकम टैक्स एक्ट, 1961 की धारा 80C के तहत, आप लाइफ इंश्योरेंस प्लान, इक्विटी से जुड़ी बचत स्कीम (ईईएलएस), नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट, फिक्स्ड डिपॉजिट, पब्लिक प्रोविडेंट फंड, आदि में बचत करके टैक्स देनदारियों को कम कर सकते हैं. इन निवेश साधनों के तहत आपको अधिकतम ₹1.5 लाख तक की टैक्स कटौती मिल सकती है.

टैक्स प्लानिंग के क्या फायदे हैं?
टैक्स प्लानिंग का मतलब छूट, कटौती और बेनिफिट्स के इस्तेमाल के जरिए टैक्स देने से बच जाना जहाँ जो टैक्स लगना चाहिए वहां काम लगना

टैक्स के जनक कौन है?
जेम्स विल्सन (James Wilson) स्कॉटलैंड के कारोबारी को इनकम टैक्स सिस्टम का जनक कहा जाता है.

यह भी पढ़े

2 thoughts on “Tax Planning में ये 6 गलतियाँ कर सकती हैं आपको महंगा! जानिए कैसे बचें।”

Leave a Comment

... ...